नंदन-वन की नंदिनी

नंदन-वन की नंदिनी

Sunday, August 8, 2010

mai kaary-kartaa.मै ही हूँ वो कार्यकर्ता

                                                       

   उदास कार्यकर्ता ,
             बिजली के इंतजार में बार बार पान चबाता ......
           पूरा गाव उसे कोसता , तो वो खुद को कोसता .
            " १५ दिन का मज़ा , पांच   साल  की सजा " 
 
 होटल  में खाया  रोज़ सुबह का नाश्ता  .......
ढाबे वाला  भी  खुश था  , दोपहर  का लंच तो वही पर होता था ..
" क्या हमारा भावी सरपंच था "

चाय पानी ,बीडी सिगरेट का भी  खर्चा  वह बर्दाश्त  कर रहा था ..
साथ में मावा, घुटका ,घूमने के लिए  मुफ्त का गाड़ी भी था ....
"शाम की तो बात पूछो  मत ",
     कोई थम्प्स-अप के साथ लिया ,कोई कच्चा ही पिया....
     उसने खाया चिकन , तो मैंने खायी बिरयानी .....
परोसने वाला "भावी " सरपंच जो था .....
हाथ धोया बिसलेरी से  ,सामने सफ़ेद रुमाल भी  था .....
"मै ही  हूँ  वो कार्यकर्ता"
१५ दिन का मज़ा ...............
मेरे पूरे  गाव को पांच साल की सजा .............

 नंदिनी पाटिल

24 comments:

  1. hahaha ..... wah wah kya baat hai ek dam sahi sahi lika hai apne di ....yadi yah sab log samje jaye na tho pata nahi aapna india kaha ka kaha pucha jaye.....it well said and nice thought....

    good luck

    ReplyDelete
  2. nice one keep it up...

    ReplyDelete
  3. SAHI LIKHA HAI NANDINI JI AAPNE EKDUM SACH AUR SABSE BADI BAAT K AAP AC AUR MAHALO ME RAHNE K BAAD GRAMEEN AUR JANTA K DUKH DARD KO SAMJH KAR APNE LEKH ME SHAAMIL KAR RAHI HAI YE SABSE BADI BAAT HAI HAM JIASE CHOTE, DABE KUCHLE GAREEEB LOGO K LIYE. THX&REGARDS ZIA

    ReplyDelete
  4. Nandini ji ap ko nai poem lekhne ki dher saari shubkamna . and apne apne es poem ke madhyam se pure gaw ka dukh bataya he apko bhout bhaout subhkamna............

    ReplyDelete
  5. nandni ji bhout khub maza aa gya apke poem se . bhagwan apko lekhne ke leye or v topic de................

    ReplyDelete
  6. वाह वाह दी, कितना सुन्दर रेखांकन किया है. बधाई दी.

    ReplyDelete
  7. वाह बेहद सुन्दर चित्रण ................शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  8. वाह बेहद सुन्दर चित्रण ................शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  9. wooooo ! Great nannni...
    With fun kadvi sacchayi...... Kash ye karykarta log samz paye.... !

    ReplyDelete
  10. वाह!! सही बात कही है....आज का मतदाता ऐसा ही हो गया है..

    ReplyDelete
  11. Hi sis..nice poem..very bitter truth about our country...u written,,Apne karya karthyae ..only for debate no work..

    ReplyDelete
  12. nice poem ,no doubt its reality,keep it up mam

    ReplyDelete
  13. उदास कार्यकर्ता ,
    बिजली के इंतजार में बार बार पान चबाता ......
    पूरा गाव उसे कोसता , तो वो खुद को कोसता .
    " १५ दिन का मज़ा , पांच साल की सजा "

    होटल में खाया रोज़ सुबह का नाश्ता .......
    ढाबे वाला भी खुश था , दोपहर का लंच तो वही पर होता था ..
    " क्या हमारा भावी सरपंच था "


    चाय पानी ,बीडी सिगरेट का भी खर्चा वह बर्दाश्त कर रहा था ..
    साथ में मावा, घुटका ,घूमने के लिए मुफ्त का गाड़ी भी था ....
    "शाम की तो बात पूछो मत ",
    कोई थम्प्स-अप के साथ लिया ,कोई कच्चा ही पिया....
    उसने खाया चिकन , तो मैंने खायी बिरयानी .....
    परोसने वाला "भावी " सरपंच जो था .....
    हाथ धोया बिसलेरी से ,सामने सफ़ेद रुमाल भी था .....
    "मै ही हूँ वो कार्यकर्ता"
    १५ दिन का मज़ा ...............
    मेरे पूरे गाव को पांच साल की सजा .............

    ReplyDelete
  14. मेरी प्रिय बहन नंदनी जी , आपने इतनी बड़ी बाते अपने सुंदर कविता के माध्यम से लिखी हैं , जो की एक ग्रामीण व्यक्ति ही जानते हैं , यह तो पंचायती राज व्यवस्था का दोष हैं , आपने अपनी कविता से उनलोगों तक पहुँच बनाई हैं जहाँ कोई देखना नहीं चाहते हैं , आप इसी तरह लोगो को जगाते रहिये , आपको इतनी सुंदर पोस्ट लिखने के लिये बहुत बहुत धन्यबाद .....

    ReplyDelete
  15. हृदयस्पर्शी है ,बार बार पढाने योग्य भी है ...इसमे यह भी कीजिए
    घर का खर्चा भी अभी वही उठा रहा था
    बेटी क्या ब्याह और ज़मीन का ऋण चुकाने कि आरजू जाता रहा था...
    ये नहीं भी है फिर भी बहुत सुगठित और सत्य के शरीर सी है
    बहुत बहुत आभार और अभिनन्दन

    ReplyDelete
  16. Nandini jee app achhe kavita karate hai, I read gone through your blog, It's really nice blog.

    ReplyDelete
  17. आप सभी से निवेदन है की मेरे पुराने ब्लॉग कृपया "भारतीय की कलम से..." में कोई भी टिपण्णी न देवें यह हैक हो चूका है| पर आप सभी से अनवरत जुडाव के लिए मैंने नया ब्लॉग निर्मित कर लेखन प्रारंभ कर दिया है, आप कृपया उस नए ब्लॉग में आकर अपनी प्रतिक्रियाओं से मुझे अवगत कराएँ इस कष्टमय समय में पुनः मेरा उत्साह बढ़ाएं !!
    मेरे ब्लॉग का यु. आर एल. निम्नांकित है :-
    लो मै फिर आ गया.....
    pls visit on my blog :- http://bhartiyagourav2222.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. puri tarah aapne chunav ki satyata ko parkha hai bilkul isi prakar hota hai chunav

    ReplyDelete
  19. Hi,

    Nandini madam nice poems good luck...............

    ReplyDelete
  20. वाह वाह काश में भी आपके जेसी कोई कविता राजनीती पर लिख पता

    ReplyDelete
  21. वाह वाह, काश में भी राजनीती पर आपकी तरह बढ़िया लिख पता

    ReplyDelete