नंदन-वन की नंदिनी

नंदन-वन की नंदिनी

Saturday, December 27, 2008

हाँ, ख़त्म करना है ये .खून की होली..


झील में झांका
यहाँ से .
मुस्कुराते चेहरे ने मुझे घूरा ,
मैंने भी कोशिश की ।

एक पत्ता गिरा ऊपर से ,
मै सकपका गयी ,
झील फिर से हँसी ।
अरे ..वो तो सूखा पत्ता था
बम नहीं।

थरथराते होठो से
फिर से कोशिश की .
क्या ? तूने सुना?
मेरा मुख्य सवाल था ।
हां ,जब तेरी आँखों की बूंदे
मुझमे समा गयी ,
मेरा सवाल था -क्या होगा ?
वह बोली--
" फिर से बच्चे माँ से पूछेंगे -
''माँ पापा कब आयेंगे ?''
सुनकर मैंने उसे देखने की कोशिश की ,
आँखों में पानी का परदा था।
वह बोली ..
" सीमा के उस पार वाले बच्चे भी अपनी
माँ से यही सवाल करेंगे।
निस्तेज आँखें उसे घूर रही थीं ।
अनजाने डर से ,
हवा ने मुझे जोर से हिलाया,
पत्तों के साथ।
शायद मुझे अभी....
मै डरी नहीं ,आत्मा बोली ..
" अरे वह तो आराम से सो रहा है "
अपनी कुर्सी पर ।
झील अब जोर से हस रही थी मुझ पर ,
तब मैंने कुछ सोचा -
मेरा डर मर चुका था ,
हां हां ख़त्म करना है ,
ये खून की
होली हमेशा के लिए।

--नंदिनी पाटिल

40 comments:

  1. सीमा के उस पार वाले बच्चे भी अपनी
    माँ से यही सवाल करेंगे ..निस्तेज आँखें उसे घूर रही थीं ..
    अनजाने डर से ..very impressive creation.many congartulations

    ReplyDelete
  2. काले पन्ने पर उकेरे गये सफेद अक्षर, उस खौफ़ को भी जीवंत बना रहा है.
    राजेश

    ReplyDelete
  3. Winderful Start. Welcome and my best wishes
    कलम से जोड्कर भाव अपने
    ये कौनसा समंदर बनाया है
    बूंद-बूंद की अभिव्यक्ति ने
    सुंदर रचना संसार बनाया है
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. bahut he acchi rachna hai aapki..dil ko chu gayi..blog jagat main aapka swagat hai..

    ReplyDelete
  5. आपका स्वागत है उम्मीद है कि अच्छी रचनाएं भविष्य में भी उमड़ती रहेंगी।

    ReplyDelete
  6. हां हां ख़त्म करना है ..ये ..खून की
    होली हमेशा के लिए

    *VERY GOOD

    PLEASE VISIT MY BLOG...........
    "HEY PRABHU YEH TERAPANTH "

    ReplyDelete
  7. हिन्दी चिठ्ठा विश्व में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी समस्त शुभकामनायें आपके साथ हैं…

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सरलता से प्रकाश डाला है...बहुत ही अच्छा लिखा है...
    जो दो बातों को एक एक साथ पिरोया है वो बहुत ही उत्तम है लिखते रहिये .......

    अक्षय-मन

    ReplyDelete
  9. बहुत ही गहरा चिंतन, अच्छी कविता, अच्छी भावः
    स्वागत है आप का

    ReplyDelete
  10. एक पत्ता गिरा ऊपर से ,
    मै सकपका गयी , झील फिर से हँसी ..
    अरे ..वो तो सूखा पत्ता था ,..बम नहीं ॥
    अच्छी लगी कविता आपकी. मगर मेरे ख्याल से 'ख़त्म करनी है खून की होली' ज्यादा उपयुक्त होता. स्वागत ब्लॉग परिवार और मेरे ब्लॉग पर भी.

    ReplyDelete
  11. bahut hi khoobsurat

    -------------"VISHAL"

    ReplyDelete
  12. नव वर्ष मंगल मय हो
    आपका सहित्य सृजन खूब पल्लिवित हो
    प्रदीप मानोरिया
    09425132060

    ReplyDelete
  13. wahho achha likha hai...firstly first nav varsh ki nayi nayi shubhkamnayen.....

    Jai Ho Magalmay HO.....mere blog par swagat hai...

    ReplyDelete
  14. सच कहा है
    बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  16. nice ..so finally you started blogg.. nice keep it up

    ReplyDelete
  17. THE EXPRESSIONS REALLY COMES FROM THE CORE OF HEART,ITS SO BEAUTIFULLY EXPRESSED BY YOU, BUT THE MY QUESTIONS RELATED TO KASAB WITH REFERNCE TO JAMMU & KASHMIR AND NORTH EAST STATES STILL UNANSWERED BY YOU EVEN AFTER 5 MONTHS.KINDLY REPLY IF POSSIBLE,NAHI TO YAHI MANA JAYEGA KI JINDGI DO MUKHOTO ME RAHTE HAI.REGARDS,DANGAWAS

    ReplyDelete
  18. Nandin you are a true indian & an intelectual person. I'm happy that i read ur blogs bcause i like it, kuddos for for making this blog.

    ReplyDelete
  19. Really U R Great Indian...

    I LOVE My COUNTRY..

    ReplyDelete
  20. JITNI TAAREEF KARU KAM HAI MAANTA HOOO, APKI LEKHNI ME DAMM HAI MAANTA HOOO.... NANDINI JI KYA KHOOOB LIKHA HIA AAPNE. JAHA TAK MERA MANNNA HAI AAPNE SAMAAJ SE JUDE HAR UN PAHLUWO KO APNE LEKH ME SAMAAHIT KIYA HAI. JO SAMAAJIK HI HAI.. GOOD KEEP IT UP DEAR NANDI JI. I ADORE UR HAND.... REGRADS ZIA

    ReplyDelete
  21. rajiv (www.niftymonitor.com)July 20, 2010 at 9:59 AM

    oh! my god mujhe to pata hi nahi tha ki meri frnd itani gud poems bhi bana leti hai....
    well done!!!
    all the best......

    ReplyDelete
  22. ahh !!
    realy realy nice dear....
    BEAUTIFULLY WRIITTEN
    keep it up , god bless u
    PROUD TO BE INDIAN......

    ReplyDelete
  23. http://img1.imagehousing.com/1/f7c58c5bb4c029afef3b3089b5264aa8.jpg

    ReplyDelete
  24. lagta hai ab kuch hi Indian rest hai, keep it up,

    god bless u

    ReplyDelete
  25. it niceeeeeeeeeeee sayyyyyyyyyyyyyy

    ReplyDelete
  26. Muze Lagta hai kasab ne Tai Hotel par Fireing karane ke alava Mantralay me kar diya hota to bahut achha hota hume bhrashtachari netao se chutkara to mil jata .......

    ReplyDelete
  27. nadini u always write so so beautifuli.....
    very very nice.......
    ALL D BEST DEAR........KEEP IT UP..
    GOD BLESS U

    U R TRUE INDIAN......

    ReplyDelete
  28. sorry may ne app ka blog nahi dekha tha.
    app bahut hi sundar our acha likhe tee hi app ko mere subhe kamna dear

    ReplyDelete
  29. Bahut Hi acchi kavita likhi hen apne or padh kar or jan kar bahut accha laga I proud U Di

    ReplyDelete
  30. mem aap ne apni profile mai bahut kuch likha hai sara ka sara desh ke yeng logo ko padkar apki rah pe chalana chaiye mai apki profilr ke bare mai sabhi acche logo ko batauanga.....

    ReplyDelete
  31. बचपन में जब भी
    आसमान के सीने में
    हेलीकाप्टर या हवाई जहाज
    जिसकी दहाड़ती आवाज
    लगती गुंजने
    गली में जमा हो जाते
    बच्चे, जवान और बूढ़े
    लगते आसमान को निहारने
    जैसे ही किसी की पड़ती नजर
    उठती उॅंगली
    गुंजने लग जाती किलकारी
    और उठ जाती कई उॅंगलियाँ.
    आज भी...
    मेरे घर के छत ऊपर से
    गुजरता है हवाई जहाज
    आती है हेलीकाप्टर की आवाज
    लेकिन नहीं निकलते
    बच्चे, जवान और बूढ़े
    न ही गुंजती है किलकारी
    न उठती है उॅंगलियाँ
    वरन्
    बच्चे दुबक जाते हैं
    अपनी माँ की गोद में
    माँ सहम जाती है डर से,

    पिता का दिल दहलता है
    अनजानी आशंका से
    बूढ़ों की आँखें पथरा जाती है
    दहशत से.
    सबके सब
    जान लेते हैं
    बिना बताए ही...
    कि फिर कहीं चली है गोली
    फटा है कोई बम
    और चिथड़ों के रूप में
    फिर बिखरी है ला्शें
    फिर उजड़ी है कोई माँग
    यतीम हुआ है कोई बच्चा
    या सूनी हुई है
    किसी माँ की गोद.
    कोई भी तो नहीं चाहता
    कि भरे उड़ान
    कोई हेलीकॉप्टर
    हवाई जहाज
    उसके घर की
    छत के ऊपर से...

    ReplyDelete
  32. aapki kavita me ek roshni h..
    lakin ye baaat avi kuh logo ko sunne h...
    jis din sab sun lenge ..
    us din sab anant hoga ..
    or bhart se bharstachar ka ant hoga....

    ReplyDelete
  33. aapki kavita me ek roshni h..
    lakin ye baaat avi kuh logo ko sunne h...
    jis din sab sun lenge ..
    us din sab anant hoga ..
    or bhart se bharstachar ka ant hoga....

    ReplyDelete
  34. bahut he acchi rachna hai aapki..dil ko chu gayi



    very Nice

    ReplyDelete
  35. bahut he acchi rachna hai aapki.


    Very Nice

    Nandni

    ReplyDelete